Friday , September 20 2019
Home / उत्तराखंड / लोकसभा चुनावी जंग में हार के बावजूद कांग्रेस निकाय और विधानसभा उपचुनाव में भाजपा की मुश्किलें बढ़ाने की तैयारी में

लोकसभा चुनावी जंग में हार के बावजूद कांग्रेस निकाय और विधानसभा उपचुनाव में भाजपा की मुश्किलें बढ़ाने की तैयारी में

देहरादून। लोकसभा चुनावी जंग में हार के बावजूद कांग्रेस निकाय और विधानसभा उपचुनाव में भाजपा की मुश्किलें बढ़ाने की तैयारी में है। प्रमुख विपक्षी पार्टी श्रीनगर नगरपालिका और बाजपुर नगरपालिका के चुनाव के साथ ही पिथौरागढ़ विधानसभा सीट पर होने वाले उपचुनाव में सत्तारूढ़ दल की काट के लिए अपनी रणनीति को धार देगी।

यही वजह है कि 18 जून को प्रस्तावित प्रदेश कांग्रेस कमेटी की विस्तारित बैठक के एजेंडे में निकाय और विधानसभा उपचुनाव के मुद्दों को भी शामिल किया गया है। लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लहर में उत्तराखंड में कांग्रेस की भले ही बुरी गत हो गई, लेकिन राज्य में होने वाले अन्य चुनावों में पार्टी अपना मनोबल ढीला पड़ने देने के मूड में नहीं है।

भा चुनाव से पहले हुए राज्य में हुए नगर निकाय चुनाव में कांग्रेस का प्रदर्शन अपेक्षाकृत बेहतर रहा था। पार्टी दो नगर निगमों के साथ ही जिला मुख्यालयों के नगर निकायों में अपना वर्चस्व कायम करने में कामयाब रही थी। अब दो नगर निकायों के लिए उपचुनाव होना है।

इनमें एक निकाय पर्वतीय क्षेत्र श्रीनगर में है तो दूसरा निकाय मैदानी जिले ऊधमसिंहनगर जिले के बाजपुर में है। निकाय चुनाव में बेहतर प्रदर्शन करने की पार्टी की चाहत का ही नतीजा है कि दोनों निकायों के लिए पर्यवेक्षक नामित कर दिए गए हैं। पर्यवेक्षकों को निकायवार पार्टी के मजबूत जनाधार वाले नेताओं और कार्यकर्ताओं से संपर्क साधकर जमीनी रिपोर्ट प्रदेश नेतृत्व को सौंपनी है।

इस रिपोर्ट के आधार पर संभावित प्रत्याशियों का चयन किया जाएगा। साथ ही कमजोरी और ताकत को आंकते हुए बूथवार कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ाने में विशेष जोर देगी। इसीतरह निकट भविष्य में पिथौरागढ़ विधानसभा सीट पर भी उपचुनाव होना है। यह सीट काबीना मंत्री प्रकाश पंत के निधन से रिक्त हुई है। इस सीट पर छह माह के भीतर उपचुनाव होना है।

पिथौरागढ़ में कांग्रेस अपने जनाधार को मजबूत मानकर चलती है। इससे पहले थराली विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव में भी कांग्रेस ने पूरी ताकत झोंकी थी। यह दीगर बात है कि कड़ी टक्कर देने के बावजूद कांग्रेस अपनी धुर विरोधी भाजपा से उक्त सीट छीन नहीं पाई थी।

भाजपा को मात देने के लिए कांग्रेस ने फिर हाथ-पांव मारने शुरू कर दिए हैं। नई रणनीति तैयार करने के लिए 18 जून को प्रदेश कांग्रेस कमेटी की बैठक में निकाय और विधानसभा उपचुनाव को लेकर भी मंथन किया जाएगा।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने कहा कि कांग्रेस किसी भी चुनाव को पूरी मजबूती से लड़ेगी। हार से पार्टी का मनोबल नहीं टूटा है। 18 जून को होने वाली बैठक में उक्त दोनों निकायों के चुनाव और विधानसभा उपचुनाव पर भी चर्चा की जाएगी।

About admin

Check Also

दहेज की मांग पूरी ना पर गर्भवती को मारपीट कर घर से निकाला

रुद्रपुर: ससुरालियों ने गर्भवती विवाहिता को दहेज की मांग पूरी करने में असमर्थ होने पर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *